Wednesday, June 22, 2011

पुरी पीठाधीस जगदगुरु शंकराचार्य का नेपाल मे भब्य स्वागत

नेपाल के सीमावर्ती नगर बीरगंज मे पुरी पीठाधीस जगदगुरु
शंकराचार्य के आगमन से लोगो मे बडा उत्साह है. अपने दो
दिनो के प्रवास मे उन्होने कई महत्वपुर्ण संकेत दिए. भारत
नेपाल के सम्मलित दुश्मन के विरुद्ध व्युह रचना का सुत्र
भी दिया. नेपाल मे राम राज्य और जनक राज्य स्थापना
करने की बात भी उन्होने कहा. हिन्दु समाज को व्यक्तिगत
स्वार्थो से उठ कर वर्गीय हित के लिए काम करने का उन्होने
आव्हान किया.

भारत की सीमाओ की रक्षा का श्रेय देने योग्य व्यक्तियों मे
इतिहास से किसी एक व्यक्ति का चयन करना हो तो
वह व्यक्ति निश्चित रुपेण आदि शंकराचार्य ही होगे.
उस गौरवशाली परम्परा के उतराधिकारी होने के
नाते नेपाल के प्रति उनकी चिंता को गंभीरता से लिया
जाना चाहिए.

युपीए सरकार की गलत विदेश नीति के कारण नेपाल के
लोगो मे भारत के प्रति नाराजगी है. लेकिन शंकराचार्य
के प्रति लोगो ने बडा सम्मान और आस्था दिखाया.

1 comment:

दीर्घतमा said...

बहुत अच्छी जानकारी ,आपने वास्तविकता लिखी है .